Results for Electrical Energy

Why Neutral Wire Use in Three Phase Induction Motor in Hindi, Neutral wire in Induction Motor, Full Explanation

September 09, 2018
Why Neutral Wire in Three Phase Induction Motor in Hindi, Neutral wire in Induction Motor, Full Explanation, क्या आपने कभी देखा है की Neutral Wire को Three Phase Induction Motor जोड़ा जाता है, या क्या कभी आपने Neutral Wire को Three Phase Induction Motor में जोड़ा है ? इस पोस्ट में हम इस topic के बारे में ही बात करने वाले है तो आप इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें क्योकि इस type के question interview में बहुत ज्यादा पूछे जाते है| अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |
Why Neutral Wire Use in Three Phase Induction Motor in Hindi
Neutral Wire Use in Three Phase Induction Motor


Neutral Wire (न्यूट्रल वायर)


क्या आपसे कभी किसी ने इस type का question पूछा है की neutral wire क्या है ? या फिर किसी भी circuit में neutral wire को क्यों इस्तेमाल किया जाता है? Neutral Wire, AC Electrical Circuit को पूरा करता है| जिस प्रकार से DC Circuit में + wire और - wire दोनों  जरुरत होती है ठीक उसी प्रकार से AC Circuit में भी Phase Wire और Neutral Wire दोनों की जरुरत होती है| ये तो हो गयी बात Neutral Wire की चलिए अब बात करते है की Neutral Wire को Three Phase Induction Motor में क्यों जोड़ा जाता है या फिर Three Phase Induction Motor में Neutral Wire का क्या काम होता है?

Neutral Wire in Three Phase Induction Motor


अगर आप किसी कंपनी में जॉब करते है या फिर अभी student है तो शायद आपने Neutral Wire को Three Phase Induction motor में जुड़ा हुवा नहीं देखा होगा क्योकि normal three phase induction motors में neutral wire का कोई काम नहीं होता| क्या आपने कभी ध्यान दिया है की metro train के उप्पर सिर्फ एक ही तार रहता है और ट्रैन को single wire से input दी जाती है| वो जो single wire होती है उसकी मदद से ट्रैन को single phase ac input दिया जाता है और फिर इस single phase से three phase induction motor को चलाया जाता है चलिए समझते है कैसे:-

Why Neutral Wire Use in Three Phase Induction Motor in Hindi
VFD and Three Phase Induction Motor Connection

आपने VFD (Variable Frequency Drive) के बारे जरूर सुना होगा और हो सकता है की आपने VFD पर काम भी किया हो| Electrical Engg में Variable Frequency Drive एक ऐसी डिवाइस है जिसकी मदद से हम Frequency को अपनी जरुरत के अनुसार बड़ा या घटा सकते है|  Variable Frequency Drive को Inverter भी बोला जाता है| अब बात करते है Neutral Wire की:-

जैसा की हमने आपको बताया  की ट्रैन को सिर्फ single phase input दिया जाता है और फिर उस single phase input को VFD की मदद से three phase में बदला जाता है और फिर इस three phase ac supply से three phase induction motor को चलाया जाता है| three phase induction motor के connection star  किए जाते है| जैसा की आपको पता होगा की transformer की secondary में star winding करने  हमको three phase R Y B के साथ - साथ Neutral wire भी मिल जाता है ठीक उसी प्रकार से three phase induction motor के connection star में करने से हमको Neutral मिल जाता है और फिर इस neutral wire को इस्तेमाल में ले लिया जाता है| यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है की ट्रैन को सिर्फ single wire इनपुट में दिया जाता है और three phase induction motor के connection star में करने की वजह से हमको जो neutral point मिलता है उस wire को हम इस्तेमाल करते है| ट्रैन में अगर कभी three phase induction motor या फिर VFD कहीं भी अगर कोई फाल्ट होता है तो उस फाल्ट को जल्दी से जल्दी ढूंढ़ने के लिए three phase induction motor के neutral wire को इस्तेमाल में लाया जाता है| train की जो पटरी होती है वो Ground या Earthing का काम करती है। अगर कभी ट्रैन में कोई फाल्ट होगा तो आसानी से पता लग जाएगा कि कहा पर fault है। fault का पता करने के लिए Neutral Wire और ट्रैन की पटरी यानी को Earthing के बीच Voltage चेक की जाती है। normal case में ये voltage जीरो होती है लेकिन आगत कभी कोई fault हो जाए तो ये voltage जीरो नही होती। माना कि अगर R phase ओपन हो गया है तो इस समय मे neutral और earthing के बीच Y phase और B phase के बराबर voltage होगी। ठीक इसी प्रकार बाकी Y और B phase को भी check किया जा सकता है। जो भी बड़े - बड़े electrical circuit होते है जहां पर काफी बड़ी - बड़ी मोटर इस्तेमाल की जाती है वहां पर motor के neutral terminal को फॉल्ट ढूंढने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

हम उम्मीद करते है की आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आयी होगी, अगर आप किसी टॉपिक के बारे में हमसे समझना चाहते है तो आप इस पोस्ट के निचे कमेंट करके हमसे पूछ सकते है हम कोसिस करेंगे आपके सभी doubt clear करने की |

हम उम्मीद करते है कि आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आई होगी। आपको ये पोस्ट कैसी लगी हमको नीचे Comment करके जरूर बताएं, और आप हमसे हमारे Youtube Channel "Learn EEE" को Subscribe करके Electrical and Electronics Engineering से Related और भी जानकारी हासिल कर सकते है।


Basic Electrical and Electronics Engineering के लिए आप इस book को ले सकते है जो की हिन्दी में हैं| 



Why Neutral Wire Use in Three Phase Induction Motor in Hindi, Neutral wire in Induction Motor, Full Explanation Why Neutral Wire Use in Three Phase Induction Motor in Hindi, Neutral wire in Induction Motor, Full Explanation Reviewed by Joshi Brothers on September 09, 2018 Rating: 5

Variable Load on Power Station in Hindi, Effect of Variable Load on Power Station in hindi

September 01, 2018
Variable Load on Power Station in Hindi, Effect of Variable Load on Power Station in hindi इस पोस्ट में हम जानने वाले है की, हमारे Power Station ने Electric Load का Variation क्यों होता है? क्या आपको पता है की पूरे दिनभर में हमारे Power Station में Electric Load का Variation होता रहता है, ऐसा क्यों होता है ये आपको इस पोस्ट में जानने कोप मिलेगा| अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

Variable Load on Power Station in Hindi
Electrical Power Station 

Electrical Generating Station

भारत के Electrical Generating Station में लगभग 11kV Electricity Generate की जाती है| इस 11kV को Transformers की मदद से 220kV या फिर 400kV में Step Up किया जाता है| Voltage का Step Up निर्भर करता है की हमको Electrical Power को Generating Station से कितनी दूर लेकर जाने है, फिर उसके बाद निश्चय किया जाता है की Voltage को 66kV, 220kV या फिर 400kV कितना बडाना है|



Load Variation on Power Station 

Electrical Load का Variation सीधे - सीधे Consumer की वजह से होता है, यानी की हमारी वजह से होता है| अगर हम अपने घरों की बात करें तो हम अपने घरों के maximum appliances को कब चालू करते है या फिर हमारे घरों का maximum load कब रहता है? अगर आप घर के load पर ध्यान देंगे तो पाएंगे की आपके घर का load दिन में 12 से 4 बजे के बीच और साम को 8 बजे से 10 बजे के आस पास सबसे ज्यादा रहता है| हमारे घरों का load बडने की वजह से power stations में भी load कम और ज्यादा होता रहता है| जिस तरह से हमारे घरो का Load पूरे दिन एक सामान नहीं रहता ठीक उसी प्रकार से power stations का भी load दिन भर में एक सामान नहीं रहता क्योकि power stations के load का variation, consumer पर निर्भर करता है|

अगर आप ऊप्पर दिखाए Graph को ध्यान से देखेंगे तो आपको दिखेगा की power stations में किस तरह से पूरे दिन भर में load कम और ज्यादा होता रहता है|

Advantages and Disadvantages of variable load on power stations 

जो हमारे Electrical Generating stations होते है वहाँ पर हम Alternator की मदद से लगभग 11kV generate करते है, और फिर बाद में इस Voltage का step up किया जाता है| Generating Stations में जब maximum load होता है तो वहां पर Alternators की संख्या बड़ा दी जाती है ताकि maximum demand को पूरा किया जा सकें| लोड के कम या ज्यादा होने से Generating cost बड जाती है|


हम उम्मीद करते है की आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आयी होगी, अगर आप किसी टॉपिक के बारे में हमसे समझना चाहते है तो आप इस पोस्ट के निचे कमेंट करके हमसे पूछ सकते है हम कोसिस करेंगे आपके सभी doubt clear करने की |

हम उम्मीद करते है कि आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आई होगी। आपको ये पोस्ट कैसी लगी हमको नीचे Comment करके जरूर बताएं, और आप हमसे हमारे Youtube Channel "Learn EEE" को Subscribe करके Electrical and Electronics Engineering से Related और भी जानकारी हासिल कर सकते है।


Basic Electrical and Electronics Engineering के लिए आप इस book को ले सकते है जो की हिन्दी में हैं| 





Variable Load on Power Station in Hindi, Effect of Variable Load on Power Station in hindi Variable Load on Power Station in Hindi, Effect of Variable Load on Power Station in hindi Reviewed by Joshi Brothers on September 01, 2018 Rating: 5

Why dc supply used in Sub Station in Hindi, Battery bank in Sub Station hindi. Full Explain

August 29, 2018
Why dc supply used in Sub Station in Hindi, Battery bank in Sub Station hindi. क्या आपको पता है की जो हमारे Sub Station होते है उनमे हम Controlling के लिए DC Supply का इस्तेमाल करते हैं| किसी भी Machine के Electrical Panel की वायरिंग करते समय भी यही ध्यान में रखा जाता है की जहा तक हो सकें Controlling में DC Supply का इस्तेमाल किया जा सके| लेकिन ऐसा क्यों किया जाता है ? जब हमारे पास AC Supply होती है तो भी हम DC Supply को क्यों इस्तेमाल करते है ? इस पोस्ट में आपको यही जानने को मिलेगा तो आप इस पोस्ट को पूरा जरूर पढ़ें ताकि आप कुछ भी मिस ना कर दें| अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

Why dc supply used in Sub Station in Hindi
DC Supply in Sub Station

AC and DC Supply in Controlling


अगर अभी आप किसी कंपनी में जॉब कर रहे है तो आपको अच्छे से पता होगा की हम किसी भी मशीन की controlling के लिए AC और DC दोनो Supply को इस्तेमाल करते है, कही पर AC इस्तेमाल की जाती है तो फिर किसी पैनल में DC को इस्तेमाल किया जाता हैं| अब सवाल ये उठना चाहिए की जब हमारे पास AC Supply पहले से ही होती है, तो फिर हमको DC Supply की जरुरत क्यों पड़ती है ? किसी भी Sub Station, Distribution Station या फिर किसी Machine के Control में Control Wiring करने का सबसे पड़ा कारण होता है Safety, क्योकि Control wiring की तारें पूरी मशीन में हर जगह जाती है, अगर गलती से भी कोई wire मशीन की बॉडी के साथ टच हो गया तो इससे मशीन के ऑपरेटर को तो करंट लगेगा ही साथ के साथ हमारी मशीन के खराब होने के चांसेस बाद जाते है| हमेशा कोसिस यही रहती है की किसी भी मशीन की control wiring DC में की जाए ताकि Accident के चांसेस को काम से काम किया जा सके|


DC Supply in Sub Station


आपको सायद पता ना हो की Sub Station के अंदर Battery Bank रखे जाते जाते है जिनकी मदद से किसी भी Circuit Breaker को ON या OFF किया जाता है| अब सवाल ये पैदा होना चाहिए की AC सप्लाई के होते हुवे भी हम DC Supply को क्यों इस्तेमाल करते है ? Battery bank के लिए बहुत सारी battery लगाई जाती है तो फिर इन battery की जरुरत क्यों पड़ती है ? Sub Station में DC Supply इस्तेमाल करने का मुख्य कारण होता है की जब भी हमको Sub Station में किसी भी मशीन की supply off करनी हो तो आसानी से कर सकें और अगर कभी किसी फाल्ट या maintenance की वजह से पूरे sub station की supply off कर दी जाए तो हमारे पास backup में power होनी चाहिए जिससे की हम अपने Circuit breakers को operate कर सकें| दूसरा सबसे कारण जैसा की हमने आपको पहले ही बताया था की safety होती है| हम हमेशा यही चाहते है की हम मशीन और ऑपरेटर दोनों को भी सेफ्टी provide करवा सकें इसलिए हम Sub Station और लगभग अपनी सभी मशीनों में Controlling के लिए DC Supply  को इस्तेमाल करने की कोसिस करते है |

हम उम्मीद करते है की आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आयी होगी, अगर आप किसी टॉपिक के बारे में हमसे समझना चाहते है तो आप इस पोस्ट के निचे कमेंट करके हमसे पूछ सकते है हम कोसिस करेंगे आपके सभी doubt clear करने की |

हम उम्मीद करते है कि आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आई होगी। आपको ये पोस्ट कैसी लगी हमको नीचे Comment करके जरूर बताएं, और आप हमसे हमारे Youtube Channel "Learn EEE" को Subscribe करके Electrical and Electronics Engineering से Related और भी जानकारी हासिल कर सकते है।


Basic Electrical and Electronics Engineering के लिए आप इस book को ले सकते है जो की हिन्दी में हैं| 




Why dc supply used in Sub Station in Hindi, Battery bank in Sub Station hindi. Full Explain Why dc supply used in Sub Station in Hindi, Battery bank in Sub Station hindi. Full Explain Reviewed by Joshi Brothers on August 29, 2018 Rating: 5

Difference between Neutral Wire and Earthing Wire in hindi. Full Detail about Neutral and Earthing

August 25, 2018
Difference between Neutral Wire and Earthing Wire in hindi. Full Detail about Neutral and Earthing. क्या आपने कभी सोचा है कि Neutral Wire और Earth Wire के बीच क्या अन्तर है| Difference between Neutral and Earthing Wire ये Question Interview में अक्सर पूछा जाता है, तो चलिए जान लेते है कि इन दोनों Wire के बीच क्या अन्तर है और इनके Connection कहाँ और क्यों किए जाते है ? अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

Difference between Neutral Wire and Earthing Wire in hindi
Neutral and Earthing

Two Wire, Three Wire and Four Wire System



आपने देखा होगा कि जो हमारे घरों Appliances लगे होते है, उनकी Supply Wire या तो Two core की होती है या फिर Three core की होती है। जो wire two core की होती है वो Neutral और phase के लिए बनाई जाती है, लेकिन Electric Iron, Heater और वो सभी Appliances जिनकी Body Metal की बनी होती है उन सभी Appliances के लिए Three core की wire का इस्तेमाल किया जाता है। three core की wire को इस्तेमाल करने का मुख्य कारण होता है हमारी sefty, मतलब की three core की wire में दो wire phase और neutral के होते है लेकिन तीसरी wire Earthing के लिए इस्तेमाल की जाती है। किस wire को कहाँ पर जोड़ना है ये हम इनके Colour Code से पहचान सकते है, जैसे कि Red or Brown wire को हम Phase supply के लिए इस्तेमाल करते है, Black Wire को हम Neutral के लिए इस्तेमाल करते है और Green wire को हम हमेशा Earthing के लिए इस्तेमाल करते है। ये तो हुवी बात Three core wire की लेकिन अगर हम किसी Company की बात करें तो Company में Three Phase System चलता है यहाँ ज्यादातर Machines Three Phase पर चलती है, इसलिए यहां Four Core की Cable को इस्तेमाल किया जाता है। इन चारों wire के connection हम इनके colour code से कर सकते है जैसे कि Red wire को R से, Yellow wire को Y से और Blue wire को B से जोड़ा जाता है, क्योकि three phase supply में तीनों phase R, Y और B होते है। अब बची तीसरी wire तो इसको Neutral के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

Why use Neutral Wire (न्यूट्रल वायर को क्यों इस्तेमाल किया जाता है?)


Single Phase पर किसी भी Appliances को चालू करने के लिए neutral or phase दोनों wire का सही से जुड़े होना जरूरी होता है, क्योकि Neutral wire ही single phase में circuit को पूरा करता है। जैसा कि आपको पता होगा कि D.C में current, positive से negative की तरफ flow होता है इसी प्रकार A.C में भी current phase wire से neutral wire को तरफ flow होता है, अगर कही बीच से neutral टूट जाए या किसी अन्य वजह से circuit पूरा नही हुआ तो हमारा load चालू नही होगा तो हम कह सकते है कि Neutral Wire Circuit को पूरा करता है।

Why use Earthing Wire (अर्थिंग वायर क्यों इस्तेमाल की जाती है?)

Why use Earthing in Hindi
Earthing


Earthing जिसको हम Grounding भी बोलते है, इसको इस्तेमाल करने का बस एक ही कारण होता है और वो है Safety. किसी भी Machine या हमारे घरों के Appliances जिनकी body metal की बनी हो, उनकी body को Earthing Wire से जरूर जोड़ा जाता है। इसका मुख्य कारण यह है कि अगर machine में किसी वजह से phase wire machine की body से touch हो जाए तो इस condition में किसी भी तरह से sock लगने का खतरा ना बने। machine की body को earth करने के ये leakage current, earthing wire की मदद से ground हो जाता है और human body को किसी भी खतरे से बचाता है। Earth Wire को ही Ground Wire भी बोला जाता है जैसे कि Earthing और Grounding एक ही है।

अगर आप इस topic के बारे में ज्यादा detail में जानना चाहते है तो आप Wikipedia पर भी पढ़ सकते है।

हम उम्मीद करते है कि आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आई होगी। आपको ये पोस्ट कैसी लगी हमको नीचे Comment करके जरूर बताएं, और आप हमसे हमारे Youtube Channel "Learn EEE" को Subscribe करके Electrical and Electronics Engineering से Related और भी जानकारी हासिल कर सकते है।


Basic Electrical and Electronics Engineering के लिए आप इस book को ले सकते है जो की हिन्दी में हैं| 


Difference between Neutral Wire and Earthing Wire in hindi. Full Detail about Neutral and Earthing Difference between Neutral Wire and Earthing Wire in hindi. Full Detail about Neutral and Earthing Reviewed by Joshi Brothers on August 25, 2018 Rating: 5

Solar Photo-Voltaic Cell Working. Solar Power Plant. HINDI |fully explain|

August 19, 2018
Solar Photo-voltaic Cell Working. Solar Power Plant इस पोस्ट में हम Solar Photo-Voltaic Cell के बारे में बात करेंगे, की Solar Photo-Voltaic Cell किस तरह से काम करता हैं, और Solar Photo-Voltaic Cell किस तरह से सूरज की रौशनी को Electrical Energy में बदलता है| अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

Solar Photo-voltaic Cell Working Hindi
Solar Power Plant Installation

भारत में सोलर पावर प्लांट (Solar Power Plant in India)

आज के समय में भारत में solar power plant बहुत ही तेजी से बड  रहा है| क्योकि भारत में साल के लगभग 8 से 9 महीनों तक मौसम साफ़ रहता है और सूरज की रौशनी सीधे यहाँ की धरती पर पड़ती है, इसलिए यहाँ पर Solar Power Plant को आज कल ज्यादा महत्व दिया जा रहा है| चलिए समझने की कोसिस करते है की Solar Power Plant किस तरह से काम करता है|

सोलर पावर प्लांट (Solar Power Plant)

Solar Photo-Voltaic Cell एक ऐसा Device है जो सूरज की रौशनी को सीधे ही Electrical Energy में बदलता है| Solar Photo-Voltaic Cell से जो Electrical Energy हमको मिलती है वो D.C (Direct Current) होता है, फिर उस D.C (Direct Current) को Inverter की मदद से A.C (Alternative Current) में बदलता है और फिर उस A.C को इस्तेमाल किया जाता है| 

सोलर फोटोवोल्टेक सेल (Solar Photo-Voltaic Cell)

Basic Electrical and Electronics Engineering के लिए आप इस book को ले सकते है जो की हिन्दी में हैं| 


Solar Photo-Voltaic Cell Working. Solar Power Plant. HINDI |fully explain| Solar Photo-Voltaic Cell Working. Solar Power Plant. HINDI |fully explain| Reviewed by Joshi Brothers on August 19, 2018 Rating: 5

Neutral Wire in Our Home. HINDI Neutral Wire in Sub-Station

August 17, 2018
Neutral Wire in Our Home. कभी आपने सोचा है की जो Neutral Wire हमारे घरों तक आता है वो कहाँ से आता हैं ? ये सवाल अक्सर Interview में पूछ लिया जाता है की जो Neutral Wire हमारे घरों तक आता है वो Wire कहाँ से आता है | इस पोस्ट में आपको इस सवाल का जवाब मिल जाएगा और ये टॉपिक आपका बहुत अच्छे से क्लियर भी हो जाएगा | अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

Neutral Wire in sub stations
Neutral Wire

Electrical Transmission 

Electricity को Generate करने के बाद हमको इस वोल्टेज को Step up करके transmitte करना पड़ता है|, क्योकि हम Electricity 11KV में Generate करते है| अक्सर हमको लगता है की हम Neutral Wire को भी ट्रांस्मिट करते होंगे लेकिन ऐसा नहीं है| हम A.C THREE PHASE SUPPLY, R Y और B को ही ट्रांसमिट करते है| Neutral Wire को Transmite ना करने का 
मुख्य कारण यह है कि हम पहले से ही Three Phase System को Transmite करते है और अगर Neutral Wire को भी Transmite करना पड़ जाए तो एक Wire की Cost बड़ जाएगी इसलिए हम Neutral Wire को Transmite नही करते, इससे हमारी Transmission cost बड़ जाएगी और Neutral Wire को ट्रांसमिट करने की जरूरत भी नही होती।

Electrical Distribution

Electrical Transmission की तो हमने बात कर ली और ये भी जान लिया कि हम Neutral Wire को Transmite नही करते तो क्या हम Neutral Wire को Distribute करते है ? जी नही हम Neutral Wire को Distribute भी नही करते। जब Three Phase R, Y और B Transmite किया जाता है तो Sub station में Transformer लगे होते है जो उस High Voltage को Step Down करते है और फिर उस Voltage को Costumer को दी जाती है। लेकिन Sub-Station से भी Distribution के लिए सिर्फ तीन Wire ही आती है Neutral Wire वहाँ से भी नही आता।


Neutral Wire

आपके घरों के आस पास कोई ना कोई Transformer जरूर लगा होगा, अगर वो Transformer कभी खराब हो जाता होगा तो आपकी घर की बिजली भी चली जाती होगी।
Delta Star Connection Transformer
Delta - Star Connection


आपके घरों में जो Neutral Wire आ रही है वो Wire उसी Transformer से आ रही है। होता ये है कि हम सिर्फ तीन wire को ही एक जगह से दूसरी जगह लेकर जाते है और जब हमको Customer को supply देनी होती है तो उस समय हम कुछ customer के लिए एक Transformer लगा देते है। आपने Transformer में Delta - Star Connection के बारे में जरूर पढ़ा होगा। Transformer में भी Primary side Delta Winding और Secondary side Star Winding की जाती है। Secondary side Star Winding करने का मुख्य कारण यह होता है कि Star Winding से हमको Neutral Wire मिल जाती है, तो इस प्रकार से हमको Neutral Wire मिल जाती है। अगर हम इसी Neutral Wire को Generating Station से लेकर आते तो सोचिए कि एक Wire की Cost बिना वजह बड़ जाती।



अगर आप इस टॉपिक के बारे में ज्यादा डिटेल में जानना चाहते है तो आप Wikipedia पर पढ़ सकते है |
हम उम्मीद करते है कि आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आई होगी। आपको ये पोस्ट कैसी लगी हमको नीचे Comment करके जरूर बताएं, और आप हमसे हमारे Youtube Channel "Learn EEE" को Subscribe करके Electrical and Electronics Engineering से Related और भी जानकारी हासिल कर सकते है।


Basic Electrical and Electronics Engineering के लिए आप इस book को ले सकते है जो की हिन्दी में हैं| 



Neutral Wire in Our Home. HINDI Neutral Wire in Sub-Station Neutral Wire in Our Home. HINDI Neutral Wire in Sub-Station Reviewed by Joshi Brothers on August 17, 2018 Rating: 5
Powered by Blogger.