What is Earthing in Hindi, Pipe Earthing and Plate Earthing in Hindi, All about Earthing in Hindi

What is Earthing in Hindi, Pipe Earthing and Plate Earthing in Hindi, All about Earthing in Hindi. Earthing जैसा की इसके नाम से ही पता लगता है, की ये Earth से Related है। किसी भी Electrical Machine या फिर किसी Electrical Appliances की Earthing करने का बस एक ही मकसद होता है और वो है Safety. किसी भी Electrical Machine में करंट ले जाने वाली तारों को छोड़कर बाकी Machine की पूरी बॉडी को Earth कर दिया जाता है। इसमें machine की बॉडी को एक अलग से Earth wire या फिर bus-bar की मदद से Earth कर दिया जाता है। अगर कभी किसी machine में Leakage Current होने लगे या फिर किसी वजह से live wire (करंट ले जाने वाली तारें) machine की body से touch हो जाए तो, ऐसी स्थिति में उस मशीन की body में भी current flow होने लगेगा, जोकि human body के लिए बहुत ही danger होगा। ऐसी स्थिति में अगर कोई इंसान इस मशीन की बॉडी को छूता है तो उस इंसान को Electric Shock लग सकता है, जिससे उसकी जान भी जा सकती है। इस सब से बचने के लिए जिन भी मशीन की बॉडी धातु की हो उनकी बॉडी को Earth कर दिया जाता है, इससे अगर मशीन की बॉडी में कोई leakage current आता भी है तो वो leakage current, Earth Wire की मदद से Earth हो जाएगा और किसी भी प्रकार की कोई भी हानि नही होगी। अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

What is Earthing in Hindi, Pipe Earthing and Plate Earthing in Hindi, All about Earthing in Hindi
Pipe and Plate Earthing

Earthing and Earth Resistance (अर्थिंग और अर्थ रेजिस्टेंस)


किसी भी जमीन पर Earthing करने से पहले बहुत सी बातों को ध्यान में रखना पड़ता है, और जिस जमीन पर Earthing की जानी है उस जमीन का Earth Resistance चेक करा जाता है, क्योकि साधारण जमीन का Earth Resistance 5 Ohm और पथरीली जमीन का Earth Resistance 8 Ohm से ज्यादा नही होना चाहिए। नीचे हमने कुछ Earth Resistance लिखे है उनको ध्यान में रखें-

  • पावर स्टेशन (Power Station) - 0.5 Ohm
  •  मेजर पावर स्टेशन (Major Power Station) - 1 Ohm
  • छोटे स्टेशन (Small Power Station) 2 Ohm
  • साधारण जमीन (Ordinary Soil) - 5 Ohm
  • पथरीली जमीन (Rocky Soul) - 8 Ohm
ऊपर दिए गए सभी Earth Resistance को ध्यान में रखें। क्योंकि Earth Resistance जितना कम होगा Earthing उतनी ही अच्छी होगी। earth resistance किसी भी condition में 8 Ohm से ज्यादा नही होना चाहिए।

अर्थिंग की टाइप्स (Types of Earthing)

जैसा की हमने जाना की Earthing कितनी जरुरी है हमारे लिए, तो Earthing को भी दो हिस्सों में बता जाता है| Industrial Earthing अलग होती है और Domestic Earthing अलग होती है, मतलब की घरों के लिए अलग प्रकार की Earthing की जाती है और Companies में अलग प्रकार की Earthing की जाती है| Earthing दो प्रकार की होती है-

  • पाइप अर्थिंग (Pipe Earthing)
  • प्लेट अर्थिंग (Plate Earthing)

पाइप अर्थिंग (Pipe Earthing)

पाइप अर्थिंग को ज्यादातर घरो में इस्तेमाल किया जाता है, मतलब की pipe earthing को घरों के लिए किया जाता है| pipe earthing को  घरो के लिए इस्तेमाल करने का मुख्य कारण यह है की ये plate earthing के मुकाबले सस्ती पड़ती है और आसानी से की जा सकती है| pipe earthing को करने के लिए 38mm का एक G.I pipe लिया जाता है जिसकी लम्बाई लगभग 2m रखी जाती है ये पाइप Earth Electrode का काम करता है| इस पाइप में हर 12mm के बाद छोटे - छोटे छेद किए जाते है, ताकि नमी बनी रहे| Earthing करने के लिए किसी नमी वाली जगह को चूना जाता है और नमी वाली जगह में इस पाइप को दबा दिया जाता है| इस पाइप को जमीन में दबाते समय पाइप के चरों तरह नमक और कोयले की एक लेयर बना दी जाती है, नमक और कोयले को इसलिए किया जाता है ताकि नमी बनी  रहे| इस Earth Electrode से एक लगभग 19mm का एक पाइप जोड़ा जाता है जोकि हमको earthing होने के बाद बाहर दिखाई देता है, ये पाइप भी एक G.I Pipe ही होता है| इस पाइप के ऊपर एक होल बना होता है जिसमे नट और वार्सल की मदद से earth wire जोड़ी जाती है|

प्लेट अर्थिंग (Plate Earthing)

Plate Earthing को ज्यादातर Industrial Area में और बड़े - बड़े फ्लैटों में इस्तेमाल किया जाता है| Plate Earthing को करने के लिए एक copper की प्लेट इस्तेमाल करी जाती है इसलिए ही इसको plate earthing कहा जाता है| plate earthing में copper की प्लेट Earth Electrode का काम करती है, और इसके लिए एक 60cm * 60cm * 3.18mm मोटी एक copper की प्लेट को लगभग 3m जमींन के निचे दबाया जाता है और इस प्लेट से एक 60cm * 60cm * 6.35mm का एक G.I Pipe लगाया जाता है| earthing plate को जमीन में दबाते समय प्लेट के चारो तरफ नमक और कोयले के एक के बाद एक लेयर लगाईं जाती है जिससे की प्लेट के चरों तरफ नमी बनी भी रहे और साथ के साथ ही earth resistance भी कम से कम रहे|

हम उम्मीद करते है कि आपको हमारे द्वारा दी गई ये जानकारी पसंद आई होगी। आपको ये पोस्ट कैसी लगी हमको नीचे Comment करके जरूर बताएं, और आप हमसे हमारे Youtube Channel "Learn EEE" को Subscribe करके Electrical and Electronics Engineering से Related और भी जानकारी हासिल कर सकते है।


Basic Electrical and Electronics Engineering के लिए आप इस book को ले सकते है जो की हिन्दी में हैं|




What is Earthing in Hindi, Pipe Earthing and Plate Earthing in Hindi, All about Earthing in Hindi What is Earthing in Hindi, Pipe Earthing and Plate Earthing in Hindi, All about Earthing in Hindi Reviewed by Joshi Brothers on October 31, 2018 Rating: 5

6 comments:

  1. यह जानकारी बहुत अच्छी लगी और हम चाहते हे की आप इलेक्ट्रीशियन की प्रत्येक जानकारी देते रहे! धन्येवाद

    ReplyDelete
  2. Very good sir nice axplane

    ReplyDelete

Powered by Blogger.