Future of Automation in India |Future in Automation| Hindi

October 22, 2021
नमस्कार दोस्तों, आपको Automation क्यों सीखना चाहिए या फिर भारत या बाकी देशों में Automation का क्या भविष्य हैं? ये सवाल अक्सर सभी Students के मन में होता हैं, और ये सवाल सबसे ज्यादा तब परेशान करता हैं जब College के आखिरी 6 महीने बचे होते हैं या फिर हम अपनी पहली नौकरी की तलास मे होते हैं |

future of automation in hindi
Future of Automation in India

IFR यानि की International Federation of Robotics के अनुसान The World's Top Automated Countries (15 Country) में सबसे ऊपर आता हैं Singapore और सबसे नीचे हैं Belgium and Luxemburg देश, जहां Singapore में हर 10,000 Workers पर 918 Industrial Robots इस्तेमाल किए जाते हैं तो Belgium and Luxemburg में 149 Industrial Robots लेकिन इन top 15 Countries में भारत के साथ - साथ ज्यादातर एशियाई देश नहीं हैं जैसे नेपाल, पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि, तो इससे ये समझा जा सकता हैं की भारत के साथ - साथ ज़्यादातर सभी एशियाई देशों में Automation के ऊपर अभी भी बहुत काम होना बाकी हैं |

Automation in hindi
IFR (International Federation of Robotics)

ऑटोमेशन में भविष्य और स्कोप (Future and Scope in Automation)

future of automation in india
Future and Scope in Automation

World Economic Forum की एक रिपोर्ट के अनुसार Automation की वजह से हर 4 वर्कर्स मे से 1 की नौकरी खतरे में हैं, अब जहां Automation की वजह से लोगों की नौकरिया जा रही हैं वही बहुत सी नई नौकरिया पैदा भी हो रही हैं, जिनके पास PLC Programming, DCS, SCADA, AutoCAD, ePlan, Industrial Internet of Things (IIoT), Home Automation, Machine Learning इनमे से किसी की भी knowledge हैं तो ऐसे लोगो की डिमांड Industry को बहुत ज्यादा होती हैं| भारत में अभी हमारी Industries Automation की तरफ बड रही हैं और जैसे - जैसे Automation बड्ता जाएगा तो नए स्किल्ड वोर्करस की डिमांड भी बहुत ज्यादा बड़ जाएगी|
भारत में Automation का स्कोप बहुत ज्यादा हैं और ये आने वाले समय में बहुत तेजी से बडने वाला हैं, तो आप ये बोल सकते हैं की आने वाले समय में एक high salary job उसी को मिलने वाली हैं जिसके पास Automation से संबन्धित कोई skill होगा|

Automation में Carrier कैसे बनाए ?


हमारे Colleges के Syllabus में Automation से संबन्धित कुछ Chapter तो हैं लेकिन उतना नहीं की हमको उस knowledge की वजह से एक अच्छी जॉब मिल सके, आपको आज नहीं तो कल Automation को अपनाना ही पड़ेगा तो क्यू ना इस दिशा में आप आज से ही काम करना सुरू कर दें| अगर आप Electrical & Electronics Engineering के स्टूडेंट हैं या जॉब करते हैं या आप इलेक्ट्रिशियन हैं तो आपको PLC Programming, HMI Programming, Distributed Control System (DCS)Supervisory control and data acquisition (SCADA), AutoCAD Electrical, ePlan, Home Automation, Machine Learning, IIoT या Arduino इनमे से जो भी विषय आपको पसंद हो उसकी जानकारी लेनी सुरू करनी चाहिए|

future in automation
Future in Automation

आज के समय में Industries बहुत बड़े स्केल पर Industrial Robots का इस्तेमाल कर रहे हैं ताकि Production और Quality को बढ़ाया जा सके और labor cost कम की जा सकें, Industrial Robots में इस्तेमाल होने वाला सबसे महत्वपूर्ण डिवाइस होता हैं PLC (Programmable Logic Controller) और एक Robot में PLC बिलकुल वैसा ही हैं जैसे हमारे लिए हमारा दिमाक हैं|

आप Automation के जिस भी Sector में जाना चाहो उसके लिए आपको आज से ही काम सुरू कर देना चाहिए, आज के समय में बहुत से ऐसे माध्यम हैं जिनकी मदद से आप Automation से संबन्धित कुछ भी सीख सकते हो और सबसे बड़ा माध्यम हैं YouTube जहां आपको free में बहुत कुछ सीखने को मिलता हैं, लेकिन इसमे समय लगता हैं और YouTube पर आपको किसी भी विषय में एक Systematic तरीके से सीखने को नहीं मिलता और अगर आपको कोई doubt हो या कोई सवाल करना हो तो मुश्किल हो जाती हैं फिर दूसरा तरीका हैं की आप कोई Offline या Online कोर्स जॉइन कर सकते हैं, जहा आप अच्छे से सीख भी पाओगे और अपने doubts भी clear कर पाओगे|

Automation Online सीखना चाहिए या Offline?


Covid के आने के बाद भारत में Learning process पूरी तरीके से बदल गया हैं और सुरुवात में इस बदलाव को अपनाना Educators और Students दोनों के लिए मुसकिल था लेकिन अब सब आसान हो चुका हैं| Western Countries के लिए Online Learning पहले से ही आम बात थी लेकिन हमारे लिए ये सब नया था|

Automation course in hindi
Automation

Automation एक ऐसा विषय हैं जिसको आप 2 या 3 महीने के किसी Course को करके नहीं सीख सकते, इसके लिए आपको रेगुलर प्रैक्टिस करनी होगी| आप चाहे कोई Online Classes जॉइन करो या Offline Classes बस आपको ध्यान इतना देना चाहिए की आपका कोर्स खत्म होने के बाद भी अगर आपका कोई Doubt हो या अगर उस विषय से संबन्धित अगर आपको कुछ पुछना हो तो आप उनसे पूछ सको| अगर आपको Online या Offline कोई ऐसा कोर्स मिलता हैं जहां आप lifetime कभी भी अपने doubts clear कर सको तो इस टाइप के courses आपके लिए सबसे बढ़िया होंगे|

Automation में Learn EEE आपको PLC Programming और AutoCAD Electrical सीखने का मौका देता हैं, अगर आप Learn EEE का कोई भी कोर्स जॉइन करते हैं तो आपको सभी Courses की lifetime validity मिलती हैं और Learn EEE के सभी Courses के लिए अलग - अलग ग्रुप बने हैं जहां आप अपने doubts clear कर सकते हो और आप इन groups में भी lifetime तक रहते हो तो lifetime कभी भी आप अपने doubts clear कर सकते हो और आप अपने Doubts WhatsApp पर भी clear कर सकते हो| Learn EEE के Courses की जानकारी आपको नीचे दिए लिंक से मिल जाएगी या आप WhatsApp पर भी Courses की जानकारी ले सकते हैं|


तो दोस्तो हमको उम्मीद हैं की अब आपको पता लगा होगा भारत में Automation का क्या Scope हैं और कैसे आप Automation के Sector में अपना भविष्य बना सकते हो, फिर भी अगर आपका इस टॉपिक से संबन्धित कोई भी doubt हो या अगर आपको कुछ भी जानना हो तो क्रप्या हमको नीचे comment box में जरूर बताय, आपके सवालों के जवाब देने में हमको खुशी होगी|
Future of Automation in India |Future in Automation| Hindi Future of Automation in India |Future in Automation| Hindi Reviewed by learn che on October 22, 2021 Rating: 5

Why should we learn AutoCAD Electrical |AutoCAD Electrical क्यों सीखना चाहिए|

August 14, 2021

नमस्कार दोस्तो! मैं हूँ जगदीश जोशी, अगर आप Electrician, Diploma या BE/B-tech के स्टूडेंट हैं या जॉब करते हैं तो आपको AutoCAD Electrical क्यों सीखना चाहिए? इस पोस्ट में आपके इस सवाल का आपको जवाब मिलेगा|

AutoCAD Electrical in Hindi
AutoCAD Electrical in Hindi

AutoCAD Electrical क्या हैं ?

AutoCAD Electrical एक Tool/Software हैं Autodesk का और Autodesk एक अमेरीकन कंपनी हैं जो Electrical, Electronics, Mechanical और Civil Architecture से संबन्धित Software बनाती हैं| AutoCAD Electrical Software की मदद से आप किसी भी तरह की Electrical Schematic Drawing या Electrical Panels को डिज़ाइन कर सकते हो, और जो panel आपने design किया होगा उसके लिए आप Bill of Materials Report, Components Report आदि भी Generate कर सकते हो|

AutoCAD Electrical Software में आपको हजारो Electrical & Electronic Symbols मिलते हैं जिनकी मदद से आप अपनी Drawing को बिलकुल professional तरीके से बना सकते हो और उन सभी Symbols के footprints की मदद के आप Electrical Panel भी डिज़ाइन कर सकते हो| अगर आपको AutoCAD Electrical Software में किसी Component का Symbol नहीं मिलता हैं तो आप उस Component का Symbol खुद design करके Software में लिस्ट करवा सकते हो जिसको आप कभी भी अपनी drawing में इस्तेमाल कर सकते हो|

 AutoCAD Electrical क्यों सीखना चाहिए ?


AutoCAD Electrical Design
AutoCAD Electrical Design

अगर आप ITI Electrician, Electrical Diploma, BE/B-tech के स्टूडेंट हैं या आप जॉब करते हैं तो आपको AutoCAD Electrical जरूर सीखना चाहिए क्योकि इस Software को सीखने से आप किसी भी तरह की Electrical Drawing और Electrical Panels को डिज़ाइन करना सीखते हो, आपको पता लगता हैं की जो Electrical drawing आप Industry में इस्तेमाल करने वाले हो या कर रहे हो वो कैसे बनती हैं और अगर आपको Electrical Drawing पढ़नी नही आती हैं तो आप Electrical Software को सीखने के बाद Electrical Drawing पढ़ना भी सीख जाते हो और हजारों Electrical & Electronics Symbols की भी आपको जानकारी हो जाती हैं, जिनका पता आपको आपकी books से नहीं लगता, अगर आपको AutoCAD Electrical Software की अच्छे से जानकारी हो जारी हैं तो आपको किसी भी Electrical Panels Manufacturing कंपनी में एक अच्छी ख़ासी जॉब मिल सकती हैं|

AutoCAD Electrical Software कैसे Download करें ?

AutoCAD Electrical Software को आप Autodesk की official website से download कर सकते हो, अगर आप जॉब करते हैं तो आपको ये AutoCAD Electrical Software 1 महीने के free trial के लिए मिलता हैं और उसके बाद अगर आप चाहें तो इसका paid license ले सकते हैं, अगर आप Student हैं तो AutoCAD Electrical Software का license आपको 1 साल के लिए free में मिल जाता हैं और अगर 1 साल के बाद भी आप eligible हुवे तो आपके license का समय बड़ाया भी जा सकता हैं|


Autodesk हर साल AutoCAD Electrical Software का एक नया version निकालता हैं जैसे की AutoCAD Electrical 2019, AutoCAD Electrical 2020, AutoCAD Electrical 2021 और अभी latest AutoCAD Electrical 2022 हैं| आप AutoCAD Electrical Software के किसी भी version में सीख सकते हो या अगर आप चाहो तो अपने software को update भी कर सकते हो| AutoCAD Electrical Software को आप सिर्फ Laptop/Desktop पर ही इस्तेमाल कर सकते हो इसका कोई Android App नहीं हैं|

मेरे पास Laptop/Desktop नहीं हैं, क्या मुझे AutoCAD Electrical सीखना चाहिए ?

AutoCAD Electrical Course in Hindi
AutoCAD Electrical in Hindi

ये सवाल बहुत से Students के मन में होता हैं की अगर मेरे पास laptop/desktop नहीं हैं तो क्या मुझे AutoCAD Electrical सीखना चाहिए या नहीं, आप AutoCAD Electrical के लिए Offline Institute जॉइन करते हैं और वहा सीखते हैं, लेकिन अगर आपके पास Laptop/Desktop नहीं हैं तो क्या आपने कभी सोचा हैं की Offline सीखने के बाद आप practice कैसे करोगे ? दो तरह के Students होते हैं, एक वो जो सच में सीखना चाहते हैं और उनके लिए knowledge ही सब कुछ हैं जो भविष्य में कभी ना कभी उनके काम आने वाली हैं और एक सही knowledge भविष्य में कभी ना कभी आपके काम जरूर आती हैं और दूसरे वो जिनको knowledge से कोई मतलब नहीं हैं उनको तो सिर्फ Certificate चाहिए ताकि वो अपने Resume में ज्यादा से ज्यादा Certificates दिखा सकें जोकि उनके किसी काम नहीं आने वाला और इस बात की संभावना ज्यादा हैं की बिना knowledge के Certificates ऐसे बच्चों का नुकसान ही करेगी|

दोस्तो अगर आप सच में AutoCAD Electrical सीखना चाहते हैं और नई चीजें सीखना आपको अच्छा लगता हैं तो इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता की आपके पास Laptop/Desktop हैं या नहीं लेकिन ये इस बात पर निर्भर करेगा की आप AutoCAD Electrical कहाँ से सीख रहे हो? अगर आप किसी Offline Institute से इस कोर्स को सीख रहे हैं तब तो आपके पास Laptop/Desktop होना जरूरी हैं नहीं तो आपके कोर्स खत्म होने के बाद से लगभग 1 से 2 महीनों में ही आप सब भूल जाओगे और ये कोई Offline Institute वाला आपको नहीं बताएगा, लेकिन अगर आप कोई Online Course लेते हो तो ज्यादातर Online Courses lifetime Validity के होते हैं इसका मतलब हैं की वो कोर्स अब आपके पास Lifetime तक रहेगा तो जब आपका मन करे आप अपना Revision कर सकते हो और अगर आपको कोई ऐसा Online Course मिले जहां आपको lifetime course validity के साथ - साथ lifetime technical support भी मिलें, मतलब की आप lifetime कभी भी अपने doubts clear कर सको तो आपको ऐसे ही courses जॉइन करने चाहिए, ताकि भविष्य में आप कभी भी laptop/desktop लें तो आप practice कर सकें|

अगर आप भविष्य में सिर्फ Electrical Designer ही बनना चाहते हैं, जोकि सिर्फ 0.5 % लोग ही बन पाते हैं क्योकि इस सैक्टर में स्कोप ही इतना हैं तब तो आपके पास laptop/desktop होना ही चाहिए आप बिना laptop/desktop के offline या online कोई भी कोर्स जॉइन मत करो लेकिन अगर आप सिर्फ knowledge के लिए AutoCAD Electrical सीखना चाहते हैं ताकि आपको हजारो Electrical & Electronics Symbols, Schematic Drawing, Electrical Panels, Electrical Components, Electrical Drawing पढ़ना, Electrical Reports, Symbols कैसे design करते हैं आदि सीखना हैं तो जरूरी नहीं की आपके पास laptop/desktop होना ही चाहिए अगर नहीं भी हैं तो आपको फिर भी AutoCAD Electrical से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा|

AutoCAD Electrical कहाँ से सीखें ?

आप AutoCAD Electrical को offline या online कही से भी सीख सकते हैं, आजकल offline मार्केट में ऐसे बहुत से Institutes हैं जो सिर्फ 3 घंटों में या सिर्फ 2 दिन में AutoCAD Electrical सिखाने का वादा करते हैं, आपको ऐसे Institutes से बचना चाहिए ये एक ऐसा कोर्स हैं जो रेगुलर प्रैक्टिस मांगता हैं तो आपको कोई ऐसा Institute जॉइन करना चाहिए जो अच्छे से आपको समझाए और हो सके तो जिनसे आप कोर्स खत्म होने के बाद भी अपने doubts clear कर सको|

AutoCAD Electrical Software का online course इंग्लिश में तो आपको बहुत से मिल जाएंगे, लेकिन उन कोर्स को जॉइन करने के बाद अगर आपका कोई doubt होता हैं तो आप वहा अपने doubts clear नहीं कर सकते और अगर doubt clear भी होता हैं तो बहुत दिनों में जवाब मिलता हैं और AutoCAD Electrical Software के हिन्दी में बहुत ही कम course हैं|

AutoCAD Electrical Course in Hindi
AutoCAD Electrical Course in Hindi

अगर आप AutoCAD Electrical Software को बिलकुल basic से advance तक सीखना चाहते हैं तो आप Learn EEE का AutoCAD Electrical का course जॉइन कर सकते हैं, Learn EEE के Android App में सभी courses के लिए अलग-अलग Groups बने हुवे हैं जहां आप अपने doubts clear कर सकते हो, Android App में ही आप Direct Instructor को message करके अपना सवाल पूछ सकते हो और यहाँ आपको 20 मिनट के अंदर-अंदर सभी सवालों का जवाब मिल जाएगा और अगर आप चाहें तो WhatsApp पर भी अपने doubts clear कर सकते हैं और आप इस course को Android App या laptop/desktop पर access कर सकते हैं| Android App में आप अपने lectures को Download करके Offline भी देख सकते हैं|

Learn EEE के सभी courses की validity lifetime रहती हैं और आप इन groups में भी lifetime तक रहते हो, अगर आपका कोर्स खत्म भी हो जाता हैं तो आप lifetime कभी भी इन groups में या WhatsApp पर अपने doubts clear कर सकते हो बाकी AutoCAD Electrical Course in Hindi के बारें में ज्यादा जानकारी के लिए आप नीचे दिए लिंक पर क्लिक कर सकते हैं या फिर Learn EEE का Android App download कर सकते हैं| 


मुझे उम्मीद हैं की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको पता लगा होगा की आपको AutoCAD Electrical क्यों सीखना चाहिए, फिर भी अगर आपका AutoCAD Electrical से संबन्धित कोई भी सवाल हैं तो हमको Comment करके जरूर बताए हमको खुशी होगी आपकी मदद करने में|

Why should we learn AutoCAD Electrical |AutoCAD Electrical क्यों सीखना चाहिए| Why should we learn AutoCAD Electrical |AutoCAD Electrical क्यों सीखना चाहिए| Reviewed by learn che on August 14, 2021 Rating: 5

How to Calculate Your Inverter/UPS Battery Backup Time in hindi. Calculate Battery Backup Time

December 30, 2019
इस पोस्ट को पढने के बाद आपको पता लग जाएगा की किस प्रकार से हम अपनी Inverter या UPS की battery का backup time निकाल सकते है| इस पोस्ट में हम आपको दो तरीके बताएँगे जो भी तरीका आपको पसंद आए आप उस तरीके को इस्तेमाल कर सकते है अपनी battery का backup time निकलने के लिए, तो चलिए सुरू करते है:-

Calculate Battery Backup Time.

किसी भी battery का backup time निकालने के लिए हमको कुछ बातें पहले से पता होनी चाहिए जैसे की, हम battery पर टोटल कितना load (watt) connect करने वाले है ? battery voltage कितना है ? battery कितने Ah की है ? और battery की कितनी क्षमता (Efficiency) इस्तेमाल करनी है ? 

battery voltage, battery Ah और battery efficiency तो हमको battery से मिल जाएगी, लेकिन load हमको कैलकुलेट करना पड़ेगा जिसको हम battery voltage से inverter की मदद से चलाने वाले है ? माना की हमारे घर का load 1000 watt है जोकि हम inverter से connect करने वाले है| battery backup निकालने का फार्मूला होगा:-

h = battery Ah * battery voltage * number of battery * efficiency / total load 

माना 
Battery Ah :- 120 Ah
Battery Voltage :- 12V
Number of Battery :- 1 
Efficiency :- 80%    (0.8) (किसी भी battery को 80% ही इस्तेमाल किया जाता है)
Total load :- 1000 watt

इस प्रकार battery backup time होगा :-

= 120*12*1*0.8 / 1000 h
= 1152 / 1000 h
= 1.15h
1000 watt के load पर 120 Ah की battery 1.15h का backup देगी| चलिए अब दुसरे तरीके से निकालते है :-
Total load :- 1000 Watt
Battery voltage :- 12V
Efficiency :- 80%    (0.8)
Discharge Current :- Total Load/battery voltage
Discharge Current = 1000 watt/12V = 83.33A

Battery Backup Time निकालने का formula होगा :-

h = Battery Ah * Efficiency / Discharge Current

इस प्रकार battery backup होगा :-

= 120 * 0.8 / 83.33 h 
= 96 / 83.33 h 
= 1.15 h 
1000 watt के load पर 120 Ah की battery 1.15h का backup देगी|
तो देखिए इस प्रकार से हम दोनों तरीको को इस्तेमाल करके battery का backup निकाल सकते है, दोनों ही formula इस्तेमाल करने पर हमारा backup time एक ही आया तो आप आपनीं  सुविधा के हिसाब से कोइ भी तरीका इस्तेमाल कर सकते है |

आपको ये पोस्ट कैसी लगी हमको निचे comment करके जरुर बताए और आप इस topic को विडियो के माध्यम से भी समझ सकते है जोकि पोस्ट के निचे आपको मिल जाएगी |


How to Calculate Your Inverter/UPS Battery Backup Time in hindi. Calculate Battery Backup Time How to Calculate Your Inverter/UPS Battery Backup Time in hindi. Calculate Battery Backup Time Reviewed by Joshi Brothers on December 30, 2019 Rating: 5

Calculate kw to hp and hp to kw in Hindi |Convert kw to hp and hp to kw|

December 23, 2019
अक्सर motor की rating hp/kw में होती है लेकिन कुछ लोग जब किसी motor की rating hp/kw में देखते है जो वो कंफ्यूज हो जाते है की hp को kw में कैसे बदला जाए ? या kw को hp में कैसे बदला जाए ? ये पोस्ट उन सभी दोस्तों के लिए है जो जानना कहते है की कैसे hp को kw में और kw को hp में बदला जाता है, इस पोस्ट में हम detail में बात करेंगे Calculate kw to hp and hp to kw in Hindi, |Convert kw to hp and hp to kw| के topic पर| hp को kw में और kw को hp में बदलने के लिए आपको दो बातों का पता होना बहुत जरुरी है पहला तो ये की 1 hp में 746 watt होते है, और दूसरा 1 kw में 1000 watt होते हैअगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है | तो चलिए देखते है अब की, hp को kw में और kw को hp में कैसे बदलते है ?

Calculate KW to HP and HP to KW in Hindi
Calculate KW to HP and HP to KW in Hindi
Series Testing Board Connection and Working in Hindi, Full Explanation about series testing board 

hp को kw में कैसे बदलते है ? Convert hp to kw.


जैसा की हमने जाना की 1 kw में 1000 watt होते है और 1 hp में 746 watt होते है, अगर आपके पास कोई ऐसी motor है जिसकी rating hp में है और आपको उसे kw में बदलना है तो सबसे पहले आपको hp को watt में बदलना होगा, जैसे की 1 hp है तो 1 * 746 = 746 watt इसी प्रकार 2 hp की motor हो तो 2 * 746 = 1492 watt. अब हम जानते है की 1 kw में 1000 watt होते है तो हमको अब अगर 1 hp को kw में बदलना है तो हम 746 को 1000 से भाग दे देंगे, भाग देने पर हमको जो संख्या मिलेगी वो kw होगी| जैसे 746 / 1000 = 0.746 kw ठीक इसी प्रकार अगर हमको 2 hp को kw में बदलना है तो हम 1492 को 1000 से भाग दे देंगे जैसे की 1492 / 1000 = 1.492 kw इस प्रकार से हम hp को आसानी से kw में बदलते है|


KW को HP में कैसे बदलते है ? Convert KW to HP.

अब हम जान चुके है की 1 kw में 1000 watt होते है और 1 hp में 746 watt होते है, अब अगर आप किसी kw को hp में बदलना चलते है तो आपको सबसे पहले kw को watt में बदलना होगा जैसे की 1 * 1000 = 1000 watt इसी प्रकार 2 kw हो तो 2 * 1000 = 2000 watt, kw को watt में बदलने के बाद अब हम इस watt को 746 से भाग दे देंगे जैसे की 1000 / 746 = 1.34 hp, ठीक इसी प्रकार से 2 kw हो तो 2000 / 746 = 2.68 hp. इस प्रकार से आप किसी भी kw को बड़ी ही आसानी से hp में बदल सकते हो|


दोस्तों हम उम्मीद करते है की आपको दी गई जानकारी पसंद आई होगी और अगर आपका भी ये doubt था तो वो अब खत्म हो गया होगा, आपको ये पोस्ट कैसी लगी क्रप्या हमको निचे comment करके जरुर बताए|

Calculate kw to hp and hp to kw in Hindi |Convert kw to hp and hp to kw| Calculate kw to hp and hp to kw in Hindi |Convert kw to hp and hp to kw| Reviewed by Joshi Brothers on December 23, 2019 Rating: 5

Series Testing Board Connection and Working in Hindi, Full Explanation about series testing board

December 04, 2019
आपने कभी ना कभी series testing board का इस्तेमाल जरुर किया होगा, किसी motor की winding को चेक करने के लिए या फिर किसी दुसरे circuit को चेक करने के लिए| इस पोस्ट में हम series testing board बनाना सिखेंगे और ये भी जानेंगे की series testing board कैसे कम करता है ? अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है | तो चलिए समझ लेते है:-

Series Testing Board Connection and Working in Hindi
Series Testing Board Connection

6A and 16A Switch Connection.


series testing board को समझने से पहले हम ये जान लेते है, की हम किसी भी electrical load को कैसे 220V के साथ में Switch की मदद से control करते है ?
देखए किसी भी ac load को चालू करने के लिए हमको 220V की जरुरत होती है , जिसमे की 2 wire होते है, phase wire और neutral wire. अब मान के चलते है की हमारे पास एक 100W का Bulb है, अब जब तक हम उस blub को phase wire और neutral wire दोनों के साथ नही जोड़ देते तब तक ये bulb on नही होगा और जैसे ही हम phase wire और neutral wire को इस bulb के साथ में जोड़ देते है तो हमारा bulb on हो जाता है| हमारे घरो में अगर हमको अपने room की लाइट on करनी होती है तो हम switch को on करते है और हमारी light on हो जाती है| अब यहाँ पर switch की मदद से लाइट को control किया जाता है, जैसा की निचे diagram में दिखाया गया है| अगर हमको किसी भी bulb के connection करने है तो हम सबसे पहले अपनी phase wire और neutral wire में से neutral wire को सीधे ही bulb के साथ में जोड़ देते है, अब बचता है phase wire, इसको हम एक switch की मदद से bulb को दते है| switch हमेसा series में लगाया जाता है और इससे हमेसा phase wire को ही control करना चाहिए|

Series Testing Board Connection and Working in Hindi
Switch and Bulb Connection

6A and 16A Socket Connection.


अब हम बात करते है socket के connection की, तो देखिए जिस प्रकार से हमने एक switch से bulb को control किया था ठीक उसी प्रकार से हम एक switch की मदद से socket को भी control करते है| socket में आपको तीन टर्मिनल देखने को मिलेंगे, जो टर्मिनल सबसे बड़ा और सबसे ऊपर की तरफ होता है उसमें earth wire को जोड़ा जाता है और बाकी के निचे जो दो टर्मिनल होते है उनमें हम, एक में neutral wire और दुसरे में phase wire को जोड़ा जाता है| Neutral wire  को socket में सीधे ही जोड़ दिया जाता है, जैसा की निचे आपको diagram में दिखाया गया है और phase wire को switch को मदद से socket को दिया जाता है| socket में भी हम switch की मदद से phase wire को ही control करते है| 

Series Testing Board Connection and Working in Hindi
Socket and Switch Connection

Series Testing Board Connection and Working. (सीरीज टेस्टिंग बोर्ड के कनेक्शन)

अब तक हमने सिख लिया की किस प्रकार से हम switch की मदद से किसी भी load को control कर सकते है और कैसे हम socket के connection करते है ? series testing board को बनाने के लिए हमको एक bulb और holder, एक switch, एक socket और एक switch and socket base की जरुरत होती है| जैसा की हमने ऊपर जाना की हम किसी भी load के connection करते समय neutral wire को सीधे ही सर्किट के साथ जोड़ देते है, तो ठीक उसी प्रकार से हम यहाँ भी bulb holder के साथ neutral wire को जोड़ देंगे और phase wire को हम switch और socket की मदद से दिए गए diagram की मदद से connect कर देंगे| series testing board में हम switch और socket को series में लगा देते है, ऐसा करने से bulb तब तक चालू नही होगा जब तक हम socket के दोनों टर्मिनल्स को आपस में शोर्ट ना कर दें| अब बात आती है की series testing board को कहाँ पर इस्तेमाल किया जाता है ? series testing board की मदद से हम किसी भी electrical fault को check कर सकते है, जैसे series testing board का इस्तेमाल motor winder बहुत ज्यादा करते है motor या fan की winding को चेक करने के लिए|

तो दोस्तों ये था series testing board का connection और इसकी working. आपको ये पोस्ट कैसे लगी हमको नीचे comment box में जरुर बताए और अगर आप इस topic को और भी अच्छे तरीके से विडियो के माध्यम से देखना चाहते है तो आप Learn EEE के youtube channel पर देख सकते है, या फिर इस पोस्ट के निचे जो विडियो है उसको देख सकते है, आपके जो भी doubt होंगे वो सभी clear हो जाएँगे|

Series Testing Board Connection and Working in Hindi, Full Explanation about series testing board Series Testing Board Connection and Working in Hindi, Full Explanation about series testing board Reviewed by Joshi Brothers on December 04, 2019 Rating: 5

Servo Motor - Working, Construction, Types, Uses and Controller in Hindi. Servo and Servo Mechanism

November 11, 2019
इस पोस्ट को पढने के बाद आपको सर्वो motor के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारी मिल जाएंगी, आप इस topic को विडियो को मध्यम से भी समझ सकते है जिसको हमने Learn EEE के youtube channel पर उप्लोड़े किया हुवा ह| जैसा की आपको पता होगा की हमारी सभी motors Electrical Energy को Mechanical Energy में बदलती है, ठीक इसी प्रकार से Servo motor भी काम करती है| Servo Motor special purpose motor है जिसको सिर्फ special purpose के लिए ही इस्तेमाल किया जाता है, जैसा की आपने भी देखा होगा की हर जगह इस्तेमाल नही किया जाता है, तो फिर सवाल ये आता है की servo motor को कहा और क्यों इस्तेमाल किया है और servo motor ही क्यों इस्तेमाल की जाती है ? Toys, cnc machines, vmc machines, robotics और हर वो जगह जहां पर हमको अपने object को specific angle पर घुमाना हो या जहां पर हमको high starting torque चाहिए और high accuracy चाहिए वहाँ पर हम servo motor को इस्तेमाल करते है| जिस प्रकार से induction motor की rating HP या KW में होती है ठीक उसी करकार से servo motor की rating KG/CM में होती है| अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

Top 5 automatic room heater for new born baby in india

Servo Motor - Working, Construction, Types, Uses and Controller in Hindi. Servo and Servo Mechanism
Servo Motor

What is the difference between a Servo Motor and an Induction Motor ?


Servo Motor और Induction Motor को जो चीज अलग करती है वो है इनका control system, servo motor closed loop control system पर काम करती है जिसको हम feedback system भी कहते है लेकिन induction motor open loop control system पर काम करने वाली motors है| induction motors का starting torque servo motors के मुकाबले बहुत कम होता है, induction motors की speed control, temperature control, breaking servo motor के मुकाबले काफी जटिल होती है जबकि हम servo motor की किसी भी angle में घुमा सकते है जैसे की अगर कही पर हमको सिर्फ 180 degree का ही rotation चाहिए तो हम servo motor की मदद से इसे भी प्राप्त कर सकते है लेकिन induction motors में ऐसा नही किया जा सकता |
servo motor के controller को बनाने के लिए हमको PCBs की जरुरत होती है, जिसके लिए हमने JLCPCB से कुछ PCBs आर्डर करी है| JLCPCB से आप किसी भी color की PCBs और prototype PCBs सिर्फ 2$ में आर्डर कर सकते है|

Servo Motor - Working, Construction, Types, Uses and Controller in Hindi. Servo and Servo Mechanism

servo motor का Construction कैसा है ?


जैसा की हमने जाना की servo motor closed loop control system पर काम करने वाली motor है जैसा की निचे block diagram में दिखाया गया है-
Servo Motor - Working, Construction, Types, Uses and Controller in Hindi. Servo and Servo Mechanism
servo motor block diagram


servo motor दो प्रकार के होती है AC servo motor और DC servo motor, servo motor का construction बाकी की motors से थोडा अलग होता है, servo motor में इस्तेमाल होने वाले पार्ट्स है-
  • motor.
  • Controller.
  • Reduction Gear.
  • Encoder/Potentiometer.
Reduction Gear:- एक आम motor की तरह ही servo motor में भी stator और rotor होते है लेकिन servo motor में rotor shaft के साथ ही एक reduction gear लगा होता है जिसकी वजह से इस motor का starting torque बाकी motors की तुलना में बहुत ज्यादा होता है|

Controller:- इस motor को control करने के लिए एक controller इस्तेमाल किया जाता है जो dc servo motors में microcontroller या arduino हो सकता है और ac servo motor में servo drive होती है| ac servo motor का operating voltage उस motor के manufacturer के ऊपर निर्भर करता है की motor की company की है, जैसे की fanuc का control system 3 phase 220V पर काम करता है इसमें एक PSM (Power Supply Module) लगा होता है जोकि 3 phase ac supply को 280V के आस पास dc supply में बदलकर servo drive को देता है और फिर servo drive इस dc supply को 3 phase ac supply में बदलकर servo motor को U V W देती है| निचे image में fanuc की servo drive को servo motor के साथ connect करके दिखाया गया है|
Servo Motor - Working, Construction, Types, Uses and Controller in Hindi. Servo and Servo Mechanism
Servo Motor with Controller (Servo Drive)


Encoder/Potentiometer:- servo motor में सबसे महत्पूर्ण काम करता है इसका encoder या potentiometer जोकि feedback के लिए इस्तेमाल किया जाता है| dc servo motor में potentiometer और ac servo motor में encoder इस्तेमाल किया जाता है, ac servo motor में encoder motor की rpm, motor का temperature, over torque जैसी जानकारी drive को encoder wire की मदद से feedback देता है| निचे दी गई image में आपको servo motor के साथ encoder लगा हुवा दिखाया गया है, इस image में जहां पर specification लिखी हुवी है वो encoder ही है जिसमें उसका model number और serial number जैसी और भी कई जानकारी लिखी हवी है|       
Servo Motor - Working, Construction, Types, Uses and Controller in Hindi. Servo and Servo Mechanism
Encoder for Servo Motor

Servo Motor कैसे काम करती है ?

Servo motor, servo mechanism पर काम करती है जैसा की हम ऊपर servo motor के सभी पार्ट्स के बारे में जान चुके है और हमको पता लग चूका है की servo motor एक closed loop control system या feedback system पर काम करता है, जब हम servo motor के controller को servo motor को चालू करने की command देते है तो controller उस command को चेक करके motor को supply के साथ जोड़ देता है और motor चालू हो जाती है, motor के rotor के साथ ही एक reduction gear box लगा होता है ये motor के अंदर ही होता है हमको बाहर से नही दीखता| gear box का काम motor का starting torque high करना होता है, gear box की shaft के साथ ही encoder भी लगा होता है जो motor की RPM का feedback controller को देता है जिसकी वजह से motor उतनी ही RPM पर चलती है जितना की controller को command दी जाती है या सिर्फ उसी angle पर rotate करती है जिस angle की command controller को दी जाती है| निचे दिए गए closed loop control system के block diagram को ध्यान से देखिए-
Servo Motor - Working, Construction, Types, Uses and Controller in Hindi. Servo and Servo Mechanism
Closed Loop Control System for Servo Motor

हम उम्मीद करते है की आपको ये पोस्ट पढने के बाद servo motor के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी फिर भी अगर आपके इस topic से related कोई doubt है तो आप निचे comment box में लिख सकते है हम कोसिस करेंगे की आपके सभी doubt clear करें या आप विडियो के माध्यम से भी इस topic को समझ सकते है विडियो भी आपको पोस्ट के आखरी में मिल जाएंगी| 

Servo Motor - Working, Construction, Types, Uses and Controller in Hindi. Servo and Servo Mechanism Servo Motor - Working, Construction, Types, Uses and Controller in Hindi. Servo and Servo Mechanism Reviewed by Joshi Brothers on November 11, 2019 Rating: 5

How to Use a BreadBoard in Hindi, BreadBoard Connections ब्रेडबोर्ड कैसे इस्तेमाल करते है ?

October 29, 2019
इस पोस्ट में आपको BreadBoard के बारे में जानने को मिलेगा की, BreadBoard क्या होता है ? क्यों इस्तेमाल किया है ? और इसके connection किस प्रकार किए जाते है ? इन सभी प्रश्नों के जवाब आपको इस पोस्ट को पूरी पढने के बाद मिल जायेंगे | इस पोस्ट के लास्ट में आप BreadBoard को विडियो के माध्यम से भी समझ सकते है, तो चलिए जानते है | अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

know all about breadboard in hindi
BreadBoard

BreadBoard क्या है और क्यों इस्तेमाल किया जाता है ?


अक्सर हम जब भी कोई Electronics Circuit को बनाते है तो सबसे पहले उस circuit का Diagram बनाते है और फिर उस Circuit को Plane PCB या फिर Printed PCB पर बनाते है, लेकिन कई बार हमारे द्वारा बनाया गया Circuit किसी वजह से काम नही करता या हमको PCB मे Soldering किए गए सभी Components को निकालना पढता है और फिर दोबारा से Circuit को Design करना पढता है | इस Process को इस्तेमाल करने से हमारा समय और पैसे दोनों ही बर्बाद होते है, क्योकि जरुरी नही की जिस Circuit को हम बना रहे है वो पहली ही बार में सही से काम करने लग जाए और अगर काम नही करेगा तो हमारी पूरी मेहनत खराब हो जाती है और PCB भी बेकार हो जाती है, इस सब से बचने के लिए हम BreadBoard का इस्तेमाल करते है, जब भी हमको कोई Circuit बनाना होता है तो हम सबसे पहले उस Circuit को BreadBoard पर बना के चेक कर लेते है, की क्या ये हमारे द्वारा बनाया गया Circuit सही से काम करेगा या नही ? अगर BreadBoard में बने Circuit में कोइ खराबी आती भी है तो हम उसी समय उस Circuit को बिना किसी ज्यादा पैसे और समय खर्च किए सही कर सकते है और जब हमारा Circuit पूरी तरह से सही बन जाए तब हम उस Circuit के लिए PCB Design कर सकते है |



BreadBoard में connection कैसे किए जाते है ?


अब आप सोच रहे होंगे की BreadBoard के connection किस प्रकार किए जाते है ? तो ये बहुत ही आसान है, सबसे पहले तो आप निचे दिए गए BreadBoard को ध्यान से देखीए और इसको समझने की कोसिस करिए -

breadboard connection in hindi
BreadBoard


जो आपको ये Image दिख रही है इसको हम BreadBoard बोलते है, इसमें आपको बहुत सारे होल दिख रहे होंगे इन होलो में हम Electronics Components को लगते है और एक Component को दुसरे Component से jumper wire की मदद से जोड़ते है | निचे दिखाई गई फोटो jumper wire की है:-

jumper wires connection in hindi
Male Jumper Wires

इन jumper wire की मदद से ही BreadBoard में एक component को दुसरे component से जोड़ा जाता है, इस BreadBoard में आपको Positive और Negative के दो Symbol दिख रहे होंगे, BreadBoard में ऊपर और निचे positive और negative वाली लाइन में Power Supply कनेक्ट होती है, आप चाहे तो ऊपर की तरफ जोड़ सकते है या फिर निचे की तरफ जोड़ सकते है, positive और negative वाली पूरी row एक दुसरे से internally connect होते है और उसके ऊपर BreadBoard में जो आपको 1, 2, 3...... 30 नंबर दिखाई दे रहे होंगे, इसके column एक दुसरे से internally connect होते है जैसा की निचे दिए image में दिखाई दे रहा है:-\

breadboard connection with jumper wires
Breadboard Connection


इस इमेज में हमने सर्फ कुछ ही columns को एक दुसरे से connected दिखा रखा है लेकिन ये BreadBoard में 1 नंबर से 30 नंबर तक सभी columns internally connect होते है और ये ऊपर और निचे दोनों तरफ के columns connect होते है लेकिन ऊपर और निचे वाले columns और row एक दुसरे से नही जुड़े होते बिच में थोड़ी सी जगह खली रहती है जहाँ पर आपको Learn EEE लिखा हुवा दिख रहा होगा | निचे दी गई Image को देख के आप समझ सकते है की किस तरह से BreadBoard में Components को लगाया जाता है |

breadboard connection with jumper wire in hindi
Breadboard Connection with Arduino


जैसा की इस Image में दिख रहा होगा की PCB और BreadBoard को jumper Wires की मदद से एक दुसरे से connect किया गया है |

तो दोस्ते ये है BreadBoard की पूरी जानकारी अगर आपने ये पोस्ट पूरी पढ़ी है तो मुझे पूरी उम्मीद है की अब तक तो आप समझ ही गए होंगे की BreadBoard क्या होता है और BreadBoard में connection किस प्रकार से किए जाते है, फिर भी आपके BreadBoard को लेके कोई doubt रह गए या अगर आपको समझ में नही आया तो आप इस पोस्ट के निचे comment box में अपना जो भी doubt हो उसको लिख सकते है, हम पूरी कोसिस करेंगे आपके सभो comments का reply करने की | BreadBoard के ऊपर हमने Learn EEE channel पर विडियो भी बना रखी है, आप चाहें तो आप उस विडियो को भी देख सकते है |


How to Use a BreadBoard in Hindi, BreadBoard Connections ब्रेडबोर्ड कैसे इस्तेमाल करते है ? How to Use a BreadBoard in Hindi, BreadBoard Connections ब्रेडबोर्ड कैसे इस्तेमाल करते है ? Reviewed by Joshi Brothers on October 29, 2019 Rating: 5

How to Control a Stepper Motor with Driver and Arduino in Hindi, Stepper Motor Testing

October 21, 2019
आज के समय में Industries के अंदर Automation बहुत ज्यादा बड गया है, अब लगभग सभी Industries Automation की तरफ बड रही है, जब भी Automation की बात होती है, तो इसमें  Robots को सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता हैं, Automobile Sector हो या कोई और हर जगह robots का इस्तेमाल बड गया है | अगर बात Automation और Robots की होती है तो Stepper Motor एक ऐसी मोटर है जिसके बारे में जरुर बात की जाती है, क्योकि आज के समय में बिना stepper motors के robots को नही बनाया जा सकता | इस पोस्ट में हम stepper motor को किस प्रकार से control किया जाता है इसपर बात करेंगे| अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

How to Control a Stepper Motor with Driver and Arduino in Hindi
Stepper Motor Testing
How to Use a BreadBoard in Hindi, BreadBoard Connections ब्रेडबोर्ड कैसे इस्तेमाल करते है ?

जैसा की बाकि normal motors को हम सीधे ही supply voltage के साथ जोड़ देते है और motor से output ले लेते है लेकिन stepper motor को सीधे ही supply voltage के साथ में नही जोड़ा जाता, इसको supply voltage इसके Driver की मदद से दी जाती है जोकि एक Microprocessor  होता है | stepper motor एक special machine या advanced machine होती है जिसको सिर्फ special purpose के लिए ही इस्तेमाल किया जाता है|

यहाँ पर हम एक stepper motor को Arduino Mega 2560 और ULN2003 की मदद से control करने वाले है | ULN2003 किट आप चाहें तो ऑनलाइन खरीद सकते या इस किट को आप खुद बना भी सकते है हमने यहाँ पर इस किट को JLCPCB (Prototype PCBs for Only 2$) की PCBs का इस्तेमाल करके खुद बनाया है|

How to Control a Stepper Motor with Driver and Arduino in Hindi

Stepper Motor को control करने के लिए हमको कुछ Hardwares की जरुरत पड़ेगी जोकि निचे दिए गए है-MEGA 2560 *1
USB Cable*1
Deceleration Stepper Motor*1
ULN2003*1
Dupont Wire*Several

Arduino और ULN2003 के connection किस प्रकार से करने है वो हमने LearnEEE की विडियो में detail में बताया है, आप वहां से इसके connection देख सकते है और किसी भी stepper motor को control कर सकते है |


How to Control a Stepper Motor with Driver and Arduino in Hindi, Stepper Motor Testing How to Control a Stepper Motor with Driver and Arduino in Hindi, Stepper Motor Testing Reviewed by Joshi Brothers on October 21, 2019 Rating: 5

How to Make Traffic Light with Arduino Program in Hindi. Traffic Light Connection and Program in Hindi

October 14, 2019

दोस्तों इस पोस्ट में आपको ट्रैफिक लाइट किस तरीके से काम करती है, और ट्रैफिक लाइट का सर्किट किस प्रकार से बनाया जाता है इसके बारे में जानने को मिलेगा, इस सर्किट को बनाने के लिए हम Arduino का इस्तेमाल करने वाले है जिसमें हम अपना प्रोग्राम डालेंगे और इस सर्किट को बनायेंगे, इस सर्किट को सबसे पहले आप Breadboard पर बना लें उसके बाद आप चाहें तो इस सर्किट को PCB में भी सोल्डरिंग करके बना सकते है| इस सर्किट में हम JLCPCB की PCBs इस्तेमाल कर रहे है, यहाँ से आप किसी भी Color की  PCBs सिर्फ 2$ में बनवा सकते है|  तो आइए प्रैक्टिकली सीखते है| अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |


 How to Use a BreadBoard in Hindi, BreadBoard Connections ब्रेडबोर्ड कैसे इस्तेमाल करते है ? 

Traffic Light Circuit (ट्रैफिक लाइट सर्किट)


इस सर्किट के बनाने के लिए सबसे ज्यादा जरुरी कॉम्पोनेन्ट Arduino है और बाकी के कंपोनेंट्स निचे दिए गए है, ये सर्किट किस प्रकार से बनेगा इसके बारे में हमने अपनी विडियो में डिटेल में बताया है, हमारे Youtube Channel पर आप विडियो देख सकते है|

Traffic Light Circuit with Arduino Program in Hindi.
Traffic Light Circuit with Arduino Program in Hindi.
 How to Control a Stepper Motor with Driver and Arduino in Hindi, Stepper Motor Testing 

आइए देखते है की ट्रैफिक लाइट को बनाने के लिए हमको किन किन कंपोनेंट्स की जरूरत पड़ने वाली है:-

Hardware Required:-


  1. Red M5 Direct Plug-in LED*1
  2. Yellow M5 Direct Plug-in LED*1
  3. Green M5 Direct Plug-in LED*1
  4. 220Ω Resistance*3
  5. Breadboard*1
  6. Breadboard Jumper Wire*1 bunch

Traffic Light Circuit Program:-


int redled =10; //define digit 10 interface
int yellowled =7; //define digit 7 interface
int greenled =4; //define digit 4 interface
void setup()
{
pinMode(redled, OUTPUT);//define the red light interface as the output interface
pinMode(yellowled, OUTPUT); //define the yellow light interface as the output interface
pinMode(greenled, OUTPUT); //define the green light interface as the output interface
}
void loop()
{
digitalWrite(greenled, HIGH);////turn on green light
delay(5000);//delay 5 seconds
digitalWrite(greenled, LOW); //put out green light
for(int i=0;i<3;i++)//flicker for three times, yellow light blinking effect.
{
delay(500);//delay 0.5 second
digitalWrite(yellowled, HIGH);//turn on yellow light
delay(500);//delay 0.5 second
digitalWrite(yellowled, LOW);//put out yellow light
}
delay(500);//delay 0.5 second
digitalWrite(redled, HIGH);//turn on red light
delay(5000);//delay 0.5 second
digitalWrite(redled, LOW);//put out red light
}

How to Make Traffic Light with Arduino Program in Hindi. Traffic Light Connection and Program in Hindi How to Make Traffic Light with Arduino Program in Hindi. Traffic Light Connection and Program in Hindi Reviewed by Joshi Brothers on October 14, 2019 Rating: 5

5V, 5 Pin DC Relay Working, Construction and Connection in Hindi, Relay Working and Connection

September 08, 2019
 इस पोस्ट में हम जानेंगे की 5V, 5 Pin DC Relay Working, Construction and Connection in Hindi, Relay Working and Connection कैसे करते है, हम उम्मीद करते है आपको ये पोस्ट पसंद आएगी और इस पोस्ट से आपको बहुत किछ सिखने को भी मिलेगा। अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

What is Relay ?


Relay एक switching device है जिसको हम external voltage (5V DC, 12V DC, 24V DC, 110V AC, 220V AC या 440V AC) देकर control कर सकते है, किस relay को कितना controlling voltage देना है ये relay coil पर नर्भर करता है और relay को control circuit में इस्तेमाल किया जाता है।  किसी भी relay से हममे दो चीजों की जरुरत होती है, पहला है NO (normally open)और दूसरा है NC (normally close), ताकि हम relay का इस्तेमाल अपने control circuit में कर सकें।

relay working principle construction and connection in hindi
Relay Working and Connection in Hindi

Relay Working Principle in Hindi

इस पोस्ट  में हम 5V, 5 Pin DC Relay की बात कर रहे है, अगर बात की जाए Relay के Working Principle की तो लभभग सभी Relay का Working Principle एक ही होता है। जैसे की हमने आपको ऊपर बताया की relay coil को control करने के लिए controlling voltage की जरुरत होती है, जैसे ही relay की coil को controlling voltage दी जाती है तो relay की coil में एक magnetic field बनता है, relay coil के साथ ही एक plunger या plate लगा होता है, जब relay coil में magnetic field बनता है तो ये plunger या plate coil की ओर आकर्षित होती है जिससे NO - NC बनता है और NC - NO बन जाता है। 

Relay Construction in Hindi 

जैसा की हमने जाना की relay एक switching device है तो एक relay में NO NC और Com. terminals  होते है, जिसमे NO और NC plunger या plate से कनेक्ट होते है। relay में एक operating coil भी होती है, जिसमे magnetic field बनता है। relay में NO और NC के Contact इस प्रकार से plunger या plate के साथ जुड़े होते है की जब relay अपनी home position में होती है तो plunger या plate NC terminal को Com. terminal के साथ connect करके रखती है, लेकिन जैसे ही coil magnetise होती है तो यही plunger या plate NO terminal और com. terminal को आपस में कनेक्ट कर देती है जिससे switching होती है। जब relay coil से supply voltage disconnect करी जाती है तो relay फिर से अपनी home position में आ जाती है, supply voltage ना होने पर अपने आप home position आने के लिए इसके plunger या plate में एक spring लगी होती है जो इसको home position में लेके आती है। 

Relay Connection in Hindi 

किसी भी relay में connection करने के लिए हमको तीन terminals की जरुरत होती है जिनमें पहला है common  terminal दूसरा है NC (normally close) और तीसरा है NO (normally open) इन तीनो terminals के अलावा A1 और A2 terminals को coil के terminals होते है जिनको controlling voltage दी जाती है जैसा की ऊपर diagram में दिखाया गया है।

Relay Working Principle, Connection and Construction के बारे में Video से समझने लिए आप निचे दी गई Video देख सकते है।

5V, 5 Pin DC Relay Working, Construction and Connection in Hindi, Relay Working and Connection 5V, 5 Pin DC Relay Working, Construction and Connection in Hindi, Relay Working and Connection Reviewed by Joshi Brothers on September 08, 2019 Rating: 5
Powered by Blogger.