5V, 5 Pin DC Relay Working, Construction and Connection in Hindi, Relay Working and Connection

 इस पोस्ट में हम जानेंगे की 5V, 5 Pin DC Relay Working, Construction and Connection in Hindi, Relay Working and Connection कैसे करते है, हम उम्मीद करते है आपको ये पोस्ट पसंद आएगी और इस पोस्ट से आपको बहुत किछ सिखने को भी मिलेगा। अगर आप हमारी सभी latest पोस्ट का update पाना चाहते है, तो आप हमको Instagram पर Follow कर सकते है, क्योकि सभी latest पोस्ट हम Instagram पर update करते रहते है |

What is Relay ?


Relay एक switching device है जिसको हम external voltage (5V DC, 12V DC, 24V DC, 110V AC, 220V AC या 440V AC) देकर control कर सकते है, किस relay को कितना controlling voltage देना है ये relay coil पर नर्भर करता है और relay को control circuit में इस्तेमाल किया जाता है।  किसी भी relay से हममे दो चीजों की जरुरत होती है, पहला है NO (normally open)और दूसरा है NC (normally close), ताकि हम relay का इस्तेमाल अपने control circuit में कर सकें।

relay working principle construction and connection in hindi
Relay Working and Connection in Hindi

Relay Working Principle in Hindi

इस पोस्ट  में हम 5V, 5 Pin DC Relay की बात कर रहे है, अगर बात की जाए Relay के Working Principle की तो लभभग सभी Relay का Working Principle एक ही होता है। जैसे की हमने आपको ऊपर बताया की relay coil को control करने के लिए controlling voltage की जरुरत होती है, जैसे ही relay की coil को controlling voltage दी जाती है तो relay की coil में एक magnetic field बनता है, relay coil के साथ ही एक plunger या plate लगा होता है, जब relay coil में magnetic field बनता है तो ये plunger या plate coil की ओर आकर्षित होती है जिससे NO - NC बनता है और NC - NO बन जाता है। 

Relay Construction in Hindi 

जैसा की हमने जाना की relay एक switching device है तो एक relay में NO NC और Com. terminals  होते है, जिसमे NO और NC plunger या plate से कनेक्ट होते है। relay में एक operating coil भी होती है, जिसमे magnetic field बनता है। relay में NO और NC के Contact इस प्रकार से plunger या plate के साथ जुड़े होते है की जब relay अपनी home position में होती है तो plunger या plate NC terminal को Com. terminal के साथ connect करके रखती है, लेकिन जैसे ही coil magnetise होती है तो यही plunger या plate NO terminal और com. terminal को आपस में कनेक्ट कर देती है जिससे switching होती है। जब relay coil से supply voltage disconnect करी जाती है तो relay फिर से अपनी home position में आ जाती है, supply voltage ना होने पर अपने आप home position आने के लिए इसके plunger या plate में एक spring लगी होती है जो इसको home position में लेके आती है। 

Relay Connection in Hindi 

किसी भी relay में connection करने के लिए हमको तीन terminals की जरुरत होती है जिनमें पहला है common  terminal दूसरा है NC (normally close) और तीसरा है NO (normally open) इन तीनो terminals के अलावा A1 और A2 terminals को coil के terminals होते है जिनको controlling voltage दी जाती है जैसा की ऊपर diagram में दिखाया गया है।

Relay Working Principle, Connection and Construction के बारे में Video से समझने लिए आप निचे दी गई Video देख सकते है।

5V, 5 Pin DC Relay Working, Construction and Connection in Hindi, Relay Working and Connection 5V, 5 Pin DC Relay Working, Construction and Connection in Hindi, Relay Working and Connection Reviewed by Joshi Brothers on September 08, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.